Nation News Live
आपकी आवाज़, आपके साथ

समस्तीपुर में रोड नही तो वोट नहीं,इस गांव में लगा चुनाव बहिष्कार का पोस्टर….जरूर देखें पूरी खबर

समस्तीपुर से पप्पू कुमार की रिपोर्ट

- Sponsored -

- Sponsored -

- sponsored -

- sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

भारत के आजादी के कई वर्ष बीत गये लेकिन समस्तीपुर जिले के ताजपुर प्रखंड स्थित फतेहपुर के निवासियों को तमाम सरकारी घोषणाओं के बाबजूद सड़क से चलने की आजादी आज तक नहीं मिली। सड़क से चलने के सपने संजोये हजारों लोग काल कवलित हो गये।जी हाँ, फतेहपुर वाला पंचायत के वार्ड संख्या- 10 जहां खेत में बसे अनुसूचित जनजाति लोहार,अल्पसंख्यक समुदाय,पासवान जाति समेत अन्य समुदाय के करीब सौ से अधिक परिवार दशकों से बसे हैं लेकिन तमाम कोशिशों मसलन जनप्रतिनिधि,अधिकारी से गुहार लगाने,आवेदन देने के बाबजूद सड़क मयस्सर नहीं हुआ।इस वजह से यहाँ के निवासियों में जनप्रतिनिधियों से खिलाफ जबरदस्त नाराजगी देखी जा रही है।यहां पर सर्वाधिक लोहार समुदाय के लोग के बसे होने के कारण इस टोले को लोहर टोली के नाम से भी पुकारा जाता है।इस टोले के लोग बार- बार जनप्रतिनिधियों द्वारा सड़क के नाम पर छलने से इस चुनाव में काफी नाराज हैं।लोगों ने बैठक कर 29 सितंबर को आहूत पंचायत चुनाव में वोट का बहिष्कार का निर्णय लिया है। इसके लिए बजाप्ता बैनर बनवाकर टोले में टांगने का काम किया गया है।इसे लेकर पूरे टोले में जनसंपर्क अभियान भी चलाया जा रहा है।मुकेश शर्मा, भोला ठाकुर, पवन ठाकुर, भदई ठाकुर, अमित शर्मा, रामचंद्र शर्मा, कैलाश देवी, सोमरिया देवी, मो० मकबूल, मो० परवेज, जानकी देवी, श्याम पासवान समेत अन्य ग्रामीणों ने अभियान में हिस्सा लिया ओर इसे चुनाव तक जारी रखने का संकल्प लिया।मौके पर स्थानीय लोगों ने बताया कि 40 साल से अधिक समय से उनके पूर्वज यहाँ पर बसे हुए हैं।वे अपने निजी जमीन में हैं। कई दशक गुजर गये परंतु उन्हें आवागमन के लिए सड़क नसीब नहीं हो पाई। उन्होंने बताया कि इस दरमियान कितनी सरकारें, जनप्रतिनिधि आये-गये, आश्वासन खूब मिला लेकिन सड़क नसीब नहीं हुआ।सड़क नहीं होने के कारण कभी खटिया पर लादकर ले जाने के क्रम में महिला का गर्भपात हो गया तो कभी हर्ट पेशेंट असमय दम तोड़ दिए तो फिर कभी कोरोना रोगी को गोद में उठाकर ईलाज को ले जाया गया,और तो और दर्जन भर से अधिक समृद्ध लोग सुधीर सिंह, सुनील सिंह, चुल्हाई सिंह, अरविंद सिंह आदि अपने मकान छोड़कर अन्यत्र जाकर बस गये. कुछ लोग तो अपनी घर- जमीन ही बेचकर चले गये।इस बार उनके आंदोलन में भाकपा माले का साथ मिला है. वोट वहिष्कार करने की जानकारी मिलते ही भाकपा माले की टीम प्रखण्ड सचिव सुरेन्द्र प्रसाद सिंह के नेतृत्व में प्रभात रंजन गुप्ता, ब्रहमदेव प्रसाद सिंह की टीम मौके पर पहुंचकर स्थिति का जायजा लिया तथा उनके आंदोलन को प्रखण्ड, जिला से लेकर पटना, विधानसभा तक पहुंचाने का वादा किया. माले नेता ने आमजनों से वोट डालने की अपील की है साथ ही जनप्रतिनिधियों एवं अधिकारियों से पीड़ित पक्षों से मिलकर सड़क की समस्या का हल ढ़ूंढ़ने की अपील भी की है।

- Sponsored -

- Sponsored -

Subscribe to our newsletter
Sign up here to get the latest news, updates and special offers delivered directly to your inbox.
You can unsubscribe at any time

- Sponsored -